LGBT से भेदभाव के ख़िलाफ़ अमेरिका में क़ानून पास

यह क़ानून देश के लिब्रल्स और कंज़रवेटिव्स के बीच विचारधाराओं की लड़ाई से जुड़ा क़ानून है. जहां लिब्रल्स इसे बुनियादी मानवाधिकार मानते हैं वहीं कंज़र्वेटिव्स की राय है कि यह धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन करता है.

- Khidki Desk

अमेरिकी House of Representatives ने एक क़ानून पास कर दिया है जो कि LGBT समुदाय के लोगों से किसी भी क़िस्म के भेदभाव के ख़िलाफ़ है.


Equality Act नाम के इस क़ानून को 2019 में भी डैमोक्रेट्स के बहुमत वाले House of Representatives में पास किया गया था लेकिन तब अमेरिकी सीनेट में रिपब्लिकन सांसदों ने इसे ख़ारिज कर दिया.


अब भी इस क़ानून के सीनेट से पास हो पाने में संशय बरक़रार है. यह क़ानून देश के लिब्रल्स और कंज़रवेटिव्स के बीच विचारधाराओं की लड़ाई से जुड़ा क़ानून है.


जहां लिब्रल्स इसे बुनियादी मानवाधिकार मानते हैं वहीं कंज़र्वेटिव्स की राय है कि यह धार्मिक स्वतंत्रता का उल्लंघन करता है.


अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने 2020 में LGBT समुदाा य के अधिकारों की रक्षा करते हुए एक महत्वपूर्ण फ़ैसला दिया था. डैमोक्रेट्स की ओर से पेश किए गए इस क़ानून में कोर्ट के उसी फ़ैसले को विस्तार दिया गया है.