म्यांमार में प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतरी सेना

म्यांमार के कई शहरों की सड़कों पर सेना की बख़्तरबंद गाड़ियां दिखी हैं. इंटरनेट सेवा भी बंद है. सेना की इस तैयारी को सैन्य तख़्तापलट के बाद उभरे प्रदर्शनों के सख़्ती के साथ दमन की तैयारी के साथ देखा जा रहा है.

- Khidki Desk


म्यांमार में तख़्तापलट के बाद कई दिनों से जारी विरोध प्रदर्शनों के बाद अब आशंका जताई जा रही है कि वहां का सैन्य प्रशासन प्रदर्शनकारियों के दमन की तैयारी में है.


म्यांमार के कई शहरों की सड़कों पर सेना की बख़्तरबंद गाड़ियां दिखी हैं. स्थानीय समय के मुताबिक़ रात 01.00 के बाद से देश में इंटरनेट सेवा भी बंद है. सेना की इस तैयारी को 1 फरवरी को हुए सैन्य तख़्तापलट के बाद देश में हो रहे विरोध को खत्म करने के संकेत के तौर पर देखा जा रहा है.


देश के उत्तर में बसे काचिन में लगातार नौ दिनों से सेना के तख़्तापलट के विरोध में प्रदर्शन हो रहे हैं. यहां सुरक्षाबलों के प्रदर्शनकारियों पर गोलियां चलाने की भी ख़बर है.


संयुक्त राष्ट्र के एक अधिकारी ने म्यांमार की सेना पर लोगों के ख़िलाफ़ जंग का ऐलान करने का आरोप लगाया है.


म्यांमार के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत टॉम एंड्र्यूज ने कहा है कि सेना के जनरल हताशा के संकेत दे रहे हैं और इसके लिए उनकी जवाबदेही तय की जाएगी.


वहीं हाल में दिनों में यूरोपीय संघ, ब्रिटेन, अमेरिका और कनाडा समेत 11 देशों ने सुरक्षाबलों से प्रदर्शन कर रहे लोगों पर बलप्रयोग न करने की अपील की है.


अमेरिका समेत कई देशों ने म्यांमार में दूतावास के राजनयिकों और अपने नागरिकों को सावधानी बरतने की सलाह दी है