2.5 करोड़ में नीलाम गांधी का चश्मा

ब्रिटेन में एक ऑक्शन हाउस के लेटरबॉक्स में मिले महात्मा गांधी के एक चश्मे की नीलामी 2 लाख 60 हज़ार ब्रिटिश पाउंड में हुई है. रुपयों में अगर इस क़ीमत को आंका जाए तो यह क़रीब 2 करोड़ 55 लाख के आस पास होगी. नाटकीय अंदाज़ में इस ऑक्शन हाउस के हाथ लगे इस चश्मे की क्या कहानी है, एक रिपोर्ट -

- Khidki Desk


बीती 7 अगस्त की देर शाम दक्षिण पश्चिमी इंग्लैंड में, किसी ने एक वज़नदार सफ़ेद लिफ़ाफ़ा ईस्ट ब्रिस्टल ऑक्शंस के लेटरबॉक्स में डाला. वीकेंड के दो दिन, शनिवार और फिर रविवार को, यह लेटरबॉक्स नहीं खुला और लिफ़ाफ़ा वहीं सुस्ताता रहा.


लेकिन जब सोमवार की सुबह ऑक्शन हाउस के कर्मचारियों ने लैटरबॉक्स खोला और उसमें से एक सुनहरी परत चढ़ा चश्मा बाहर निकला, तो शायद ही किसी ने उम्मीद की होगी कि अगले कुछ दिनों में यह चश्मा ईस्ट ब्रिस्टल ऑक्शंस के इतिहास में सबसे बड़ी ​डील बनने वाला है. अब यह चश्मा एक नीलामी में 2 लाख 60 हज़ार ब्रिटिश पाउंड्स में बिक गया है यानि तक़रीबन 2 करोड़ 55 लाख रुपयों में.


उस सफ़ेद लिफ़ाफ़े में सोने की परत चढ़े इस चश्मे के साथ एक पत्र नत्थी था जिसमें लिखा था ''यह चश्मा गांधी का है. मुझे कॉल करें.''


ईस्ट ब्रिस्टल ऑक्शंस के ऑक्शनर एंड्र्यू स्वोव ने बताया कि जब उन्हें यह चश्मा मिला तो और उन्होंने इसकी तफ़तीस की. पता चला कि वाकई यह चश्मा गांधी का है और एक ऐतिहासिक खोज है. आॅक्शन हाउस ने शुरूआत में इस चश्मे की क़ीमत को 15 हज़ार पाउंड्स आंका था. स्वोव ने बताया —


''मैंने उन सज्जन को फ़ोन किया तो उनका कहना ​था कि अगर यह काम का नहीं तो इसे फ़ैक दें. लेकिन जब मैंने उन्हें बताया कि यह 15 हज़ार पाउंड्स का है तो मुझे लगता है कि वे कुर्सी से तक़रीबन गिर पड़े.''


ऑक्शन हाउस ने कहा है कि इस चश्मे को गांधी ने इस व्य​क्ति के चाचा को यादगार और उपहार स्वरूप दिया था. व्यक्ति के मुताबिक़ यह वाकिया तब का है जब उसके चाचा 1910 से 1930 के बीच दक्षिण अफ़्रीका में एक ब्रिटिश पैट्रोलियम में काम करते थे. भारत में आज़ादी के आंदोलन से जुड़ने से पहले गांधी ने दक्षिण अफ़्रीका में एक वक़ील के तौर पर काम किया था.


बीते शुक्रवार को फ़ोन के ज़रिए हुई इस चश्मे की नीलामी के शुरू होने के 6 मिनट के भीतर ही इस चश्मे के लिए आख़िरी बोली अमेरिका के एक संग्रहकर्ता ने लगाई. स्वोव ने कहा है कि यह नीलामी ईस्ट ब्रिस्टल आॅक्शंस का एक नया रिकॉर्ड है.

SUPPORT US TO MAKE PRO-PEOPLE MEDIA WITH PEOPLE FUNDING.

Subscribe to Our Newsletter

© Sabhaar Media Foundation

  • White Facebook Icon

Nainital, India