3 चीनी कंपनियों के साथ क़रार पर रोक

सोमवार को महाराष्ट्र के अधिकारियों ने कहा कि वे तीन चीनी कंपनियों के साथ किये गए व्यापारिक समझौते को लेकर समीक्षा कर रहे है और वे भारत सरकार से इस सन्दर्भ ने स्पष्टता चाहते हैं.

- Khidki Desk



भारत चीन के बीच बढ़ते सीमा तनाव के चलते भारत ने 3 चीनी कंपनियों के साथ किए गए तकरीबन 600 मिलियन यानी 60 करोड़ डॉलर्स से अधिक के व्यापर पर रोक लगा दी है.


सोमवार को महाराष्ट्र के अधिकारियों ने कहा कि वे तीन चीनी कंपनियों के साथ किये गए व्यापारिक समझौते को लेकर समीक्षा कर रहे है और वे भारत सरकार से इस सन्दर्भ ने स्पष्टता चाहते हैं.


बीते हफ्ते भारत और चीन सीमा के बीच तनाव काफी बढ़ गया था जिसमे दोनों तरफ की सेनाओं के बीच हुई हिंसक झडप में 20 भारतीय सैनिकों की मौत हो गई थी.


इस तनाव के बाद ही महाराष्ट्र ने चीनी कम्पनियों के साथ हुए व्यापार समझौतों पर रोक लगाईं है.


कोरोना वायरस के प्रकोप से पहले ही भारतीय अ​र्थव्यवस्था चरमराई हुई थी और 1979 के बाद पहली बार जीडीपी के सिकुड़ने के अनुमान थे. ऐसे में कोरोनावायरस के चलते चौपट हुई अर्थव्यवस्था ने इसे और गहरे धकेल दिया है. इस लिहाज़ से चीन के साथ इन व्यापारिक समझौतों को अहम माना जा रहा था.


बता दें कि भारत दुनिया के अन्य देशों की तुलना में भारत, चीन से अधिक सामान आयात करता है, और चीनी तकनीक भारतीय बाज़ार में इस क़दर हावी है कि चीनी कंपनियों ने भारत में अरबों डॉलर्स निवेश किये हुए है.