'लॉकडाउन खुलने पर सावधान रहें'

डब्ल्यूएचओ के आपातकालीन कार्यक्रम के प्रमुख डॉ माइक रयान ने कहा कि लॉकडाउन खुलने के रूप में कुछ आशा जगी है लेकिन इस दौरान हमें बेहद सावधान रहने की जरुरत है। उन्होंने जोड़ा कि अगर वायरस का संक्रमण बेहद कम स्तर पर हो और उसकी जांच ना की जाए तो संक्रमण फ़िर से पांव पसार लेगा।

- Khidki Desk


विश्व स्वास्थ्य संगठन ने दुनिया के कुछ हिस्सों से कोरोना संक्रमण की दर कम होने पर संतोष जताया है पर साथ ही यह भी जोड़ा है कि लॉकडाउन और अन्य पाबंदियां खोलते समय बेहद सतर्क रहने की जरुरत है। ग़ौर करने वाली बात है कि फ्रांस और स्पेन समेत यूरोप के कुछ देश सोमवार से लॉकडाउन खोलने की लंबी प्रक्रिया शुरू कर रहे हैं। हालांकि लॉकडाउन खोलने के बाद दक्षिण कोरिया, जर्मनी और चीन जैसे देशों में संक्रमण के ताजा मामले मिलने से विशेषज्ञ लॉकडाउन खोलने के नतीजों पर आशंकित हैं। डब्ल्यूएचओ के आपातकालीन कार्यक्रम के प्रमुख डॉ माइक रयान ने कहा कि लॉकडाउन खुलने के रूप में कुछ आशा जगी है लेकिन इस दौरान हमें बेहद सावधान रहने की जरुरत है। उन्होंने जोड़ा कि अगर वायरस का संक्रमण बेहद कम स्तर पर हो और उसकी जांच ना की जाए तो संक्रमण फ़िर से पांव पसार लेगा। उन्होंने उम्मीद जताई कि जर्मनी और दक्षिण कोरिया नई जगहों पर मिल रहे संक्रमण के मामलों पर काबू पा लेंगे ताकि वायरस की दूसरी लहर को आने से रोका जा सके। रायन ने बगैर नाम लिए यह भी जोड़ा कि हमें उन देशों का अनुसरण करना चाहिए जिन्होंने इस महामारी को अच्छी तरह नियंत्रित किया ना कि उन देशों का जिन्होंने इस दौरान आंखे मूंद कर रखीं। संगठन ने कुछ देशों की उस सोच के प्रति भी चेताया जो यह मानकर चल रहे हैं कि संक्रमण के लिए कदम ना उठाने की स्थिति में लोग इसके प्रति प्रतिरोधक क्षमता विकसित कर लेंगे।