बाइडेन-पुतिन के बीच तीखी ज़ुबानी जंग

पुतिन ने कहा, ''मुझे याद है, मेरे बचपन में, अपने आंगन में जब हम बहस करते थे, हम अक्सर कहा करते थे, 'जो जैसा ख़ुद होता है दूसरों को भी वही समझता है.' लेकिन यह महज़ बच्चों की कहावत या मज़ाक नहीं है.''

-Khidki Desk

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने गुरूवार को, अपने अमेरिकी समकक्ष जो बाइडेन के उस बयान पर तीखी प्रतिक्रिया दी है जिसमें उन्होंने कहा ​था कि वे पुतिन को एक 'हत्यारा' मानते हैं.


इससे पहले एबीसी न्यूज़ को दिए एक साक्षात्कार में जब जो बाइडेन से पूछा गया कि, वह क्या यह मानते हैं कि, रूसी नेता पुतिन, जिन पर अलक्ज़ेई नावल्नी और दूसरे विरोधियों को ज़हर देने के आदेश देने के आरोप हैं, वह ''हत्यारे'' हैं? इस पर बाइडेन ने जवाब दिया, ''हां मैं ऐसा मानता हूं.''

इस इंटरव्यू में बाइडेन ने पुतिन के बारे में यह भी कहा कि उनके पास आत्मा नहीं है और उन्हें अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में दख़लअंदा​ज़ी की क़ीमत चुकानी होगी. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन उस अमेरिकी ख़ुफ़िया रिपोर्ट पर ​प्रतिक्रिया दे रहे थे जिसमें आरोप लगाया गया है कि रूस ने अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में दख़लअंदाज़ी कर रिपब्लिकन प्रत्या​शी डोनल्ड ट्रम्प के पक्ष में मतदाताओं को प्रभावित करने की कोशिश की थी.


बाइडेन के इस बयान पर रूसी राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ने अमेरिकी इतिहास का हवाला देते हुए कहा है, ''हम हमेशा दूसरे लोगों में ख़ुद अपने लक्षण देखते हैं, और सोचते हैं कि वे भी वास्तव में हमारी ही तरह हैं. और इसका परिणाम होता है कि हम किसी व्यक्ति की गतिविधियों का उसी मुताबिक़ आंकलन करते हैं और निष्कर्ष देने की कोशिश करते हैं.''

पुतिन ने कहा, ''मुझे याद है, मेरे बचपन में, अपने आंगन में जब हम बहस करते थे, हम अक्सर कहा करते थे, 'जो जैसा ख़ुद होता है दूसरों को भी वही समझता है.' लेकिन यह महज़ बच्चों की कहावत या मज़ाक नहीं है.''


इधर ज़ुबानी जंग से आगे इस घटनाक्रम में रूस ने एक बेहद असामान्य क़दम उठाया है. उसने कहा है कि वह अमेरिका से अपने राजदूत को, अमेरिका-रूस के रिश्तों के भविष्य को लेकर एक बेहद ज़रूरी सलाह मशविरे के लिए वापस बुला रहा है.


वॉशिंग्टन, में मौजूद रूसी एंबेसी ने एक बयान में कहा है कि रूसी राजदूत एनाटोली एंटोनोव, शनिवार को अमेरिका से वापस चले जाएंगे. बयान में यह भी कहा गया है कि, ''अमेरिका के उच्च स्तरीय अधिकारियों की ओर से जारी किए गए ग़लत बयानों ने पहले से ही बेहद तनावपूर्ण चल रहे रिश्तों के पूरी तरह ख़त्म हो जाने का ख़तरा पैदा कर दिया है.''