पश्चिमी विक्षोभ के साथ हिमालय में पहुंच रहा है 'ब्लैक कार्बन'

वाडिया हिमालय भू-विज्ञान संस्थान के ताजा शोध में ये बात निकल कर सामने आई कि ग्लेशियरों में स्थित ब्लैक कार्बन का एक बड़ा कारण, यूरोप से तत्व आधारित गैसों के प्रदूषण का वेस्टर्न डिस्टबेंर्स (पश्चिमी विक्षोभ) के साथ यहां तक पहुंचना है. अब तक यह माना जाता रहा था कि हिमलायी जंगलों में लगने वाली आग के चलते ग्लेशियरों में ब्लैक कार्बन जमता है.

- मनमीत


यूरोप के विभिन्न देशों से निकलने वाला प्रदूषण हजारों किलोमीटर दूर हिमालय श्रंखलाओं की सेहत बिगाड़ रहा है। ये प्रदूषण हिमालयी ग्लेशियरों में ब्लेक कार्बन के तौर पर चिपक रहा है। जिस कारण ग्लेशियरों के पिघलने की रफ्तार पहले से ज्यादा तेज हो गई है।


वाडिया हिमालय भू-विज्ञान संस्थान के ताजा शोध में ये बात निकल कर सामने आई कि ग्लेशियरों में स्थित ब्लैक कार्बन का एक बड़ा कारण, यूरोप से तत्व आधारित गैसों के प्रदूषण का वेस्टर्न डिस्टबेंर्स (पश्चिमी विक्षोभ) के साथ यहां तक पहुंचना है। अब तक यह माना जाता रहा था कि हिमलायी जंगलों में लगने वाली आग के चलते ग्लेशियरों में ब्लैक कार्बन जमता है।

वैज्ञानिक इस बात का पता तो काफी पहले कर चुके थे कि, हिमालयी श्रंखलाओं के लगभग 15 हज़ार ग्लेशियरों के तेज़ रफ़्तार से पिघलने का कारण ब्लैक कार्बन है। लेकिन, उसके बाद भी ये शोध का विषय बना हुआ था कि, मई माह के बाद जनवरी माह में कैसे ग्लेशियरों में ब्लैक कार्बन का स्तर सबसे ज्यादा बढ़ जाता है। वो इसलिये, क्योंकि आरोप था कि, ये ब्लैक कार्बन वहां की स्थानीय सामाज द्वारा खाना बनाने के लिये लकड़ियां जलाने और बड़े पैमाने पर जंगलों में आग लगने के कारण निकलनी वाली कार्बन-डाइआक्साइड से उत्पन्न होती थी, जिस कारण इस गैस के कण ग्लेशियर में स्थित बर्फ में चिपक जाते हैं और ब्लैक कार्बन बन जाते हैं।


इस ब्लैक कार्बन के कारण बर्फ के पिघलने की रफ्तार बढ़ जाती थी। लेकिन, मई में तो ये बात ठीक थी, तो फिर जनवरी में ग्लेशियरों में ब्लैक कार्बन का स्तर मई माह के बराबर पहुंचने का क्या कारण था? क्योंकि जनवरी में उत्तराखंड में रहने वाला समाज ग्लेशियरों से लगभग सौ किलोमीटर पीछे चले जाता है। लिहाजा, न तो वो उस दौरान ग्लेशियरों के पास आग जलाते हैं और न ही जनवरी में जंगलों में आग लगती है।


इस शोध के लिये वाडिया हिमालय भू-विज्ञान संस्थान के वरिष्ठ भूवैज्ञानिक डॉ पीएस नेगी के नेतृत्व में गौमुख से पहले 3600 मीटर की ऊंचाई में स्थित चीड़बासा में उपकरण लगाये गये। जिससे कुछ साल बाद जो नतीजे मिले वो चौंकाने वाले थे। वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ पीएस नेगी ने बताया, "शोध में पता चला कि जनवरी में ब्लैक कार्बन भारत से नहीं, बल्कि यूरोप के देशों से पश्चिमी विक्षोभ के साथ आ रहा है। जनवरी में जब पश्चिमी विक्षोभ बारिश लेकर आता है, उसी के साथ ये गैस भी हवाओं के साथ आती है। इसका मतलब, ग्लेशियरों के पिघलने का कारण जिनता लोकल है और राष्ट्रीय है, उतना ही ग्लोबल भी है।"


दो तरह का प्रदूषण पहुंच रहा हिमालय में

इस समय हिमालय में दो तरह का प्रदूषण पहुंच रहा है। एक है बायो मास प्रदूषण (कार्बन डाइऑक्साइड) और दूसरा है एलिमेंट पोल्यूशन (तत्व आधारित प्रदूषण) जो कार्बन मोनोऑक्साइड उत्पन्न करता है। ये दोनों ही तरह के प्रदूषण ब्लैक कार्बन बनाते हैं जो ग्लेशियर के लिये खतरनाक होते हैं। वरिष्ठ भू वैज्ञानिक डा पीएस नेगी बताते हैं कि, यूरोप से केवल तत्व आधारित प्रदूषण ही हिमालय तक पहुंच रहा है। इसको हम अंतर्राष्ट्रीय फोरम पर रखकर विरोध जतायेंगे।


ब्लैक कार्बन से पचास मीटर पीछे खिसकी विंटर लाइन

ब्लैक कार्बन से सबसे बड़ा खतरा ग्लेशियरों को ही नहीं, विंटर लाइन को भी है। ब्लैक कार्बन और ग्लोबल वार्मिंग के चलते ये विंटर लाइन पचास मीटर तक पीछे खिसक गई है। जिसका असर जल वायु पर पड़ रहा है। हिमालय रेंज में पिछले कुछ सालों में हुए शोध में सामने आया है कि ‘स्नो लाइन’ (हिमरेखा) लगभग पचास मीटर नीचे खिसक गई है। इसका मुख्य वजह ब्लेक कार्बन के कारण हुई ग्लोबल वार्मिंग है। ग्लोबल वार्मिंग के कारण अब उच्च हिमालय और मध्य हिमालय में सितंबर से दिसंबर तक होने वाला हिमपात शिफ्ट होकर जनवरी से मध्य मार्च तक चला गया है। जनवरी से मध्य मार्च तक पड़ी बर्फ अपै्रल और मई में गर्मी आते ही पिघल जा रही है। जिससे न केवल स्नो लाइन तेज गति से पीछे खिसक रही है, बल्कि इससे स्नोलाइन के ईद गिर्द रहने वाले जनवरों और वनस्पतियों के लिए भी गंभीर खतरा पैदा होगा।

वाडिया इंस्टीट्यूट ऑफ हिमालयन जियोलाजी के वरिष्ठ वैज्ञानिक डा. डीपी डोभाल बताते हैं कि, उत्तराखंड ही नहीं, जम्मू कश्मीर, हिमाचल, सिक्कम और अरुणाचल प्रदेश में स्नोलाइन औसतन लगभग चालीस से पचास मीटर तक पीछे चली गई है। कई जगह तो इससे भी ज्यादा गई है। इसी तरह ग्लेशियर भी काफी पीछे गए है। पिछले एक दशक की मानिटरिंग के बाद ये ताजा आकंड़े नवंबर में आये है। पहले ही ग्लेशियर और स्नो लाइन तय सीमा से काफी पीछे है। डा. डीपी डोभाल बताते है, कि पहले हिमालयी श्रंखलाओं और मध्य हिमालाय की पहाड़ियों में हिमपात सितंबर से ही शुरू हो जाया करता था। सितंबर और अक्टूबर में गिरी बर्फ, मार्च आते आते तक बेहद ठोस हो जाया करती थी। क्योकि नवंबर, दिसंबर, जनवरी और फरवरी में भी हिमपात होता ही है। ऐसे में, बर्फ की चादर की मोटाई काफी ज्यादा होती थी। लेकिन अब सितंबर से दिसंबर तक होने वाला हिमपात जनवरी से मार्च में शिफ्ट हो गया है। ऐसे में जो बर्फ गिरती भी है, उसे ठोस बनने का समय नहीं मिलता, क्योंकि मार्च के बाद गर्मी आ जाती है। स्नो लाइन का पीछे खिसकने का मुख्य कारण ये ही है।


सेब की दो प्रजातियाँ हो सकती है विलुप्त

पहले से ग्लोबल वार्मिंग के कारण सेब की सबसे बेहतरीन प्रजाति ‘गोल्डन डिलीसियस’ और ‘रेड डिलीसियस’ खत्म होने के कागार पर पहुंच गई है। वहीं स्नो लाइन के पचास मीटर और नीचे खिसकने से काश्तकारों के सामने बड़ी मुसीबत आ सकती है। सेब की सबसे उम्दा प्रजाति गोल्डन डिलीसियस और रेड डिलीसियस के बगीचे स्नो लाइन के खत्म होने के बाद से ही शुरू होते है। उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर और हिमाचल प्रदेश में सत्तर फीसदी तक दोनों प्रजाती की क्वालिटी घट गई है। ऐसा, मध्य हिमालय में परमनेंट स्नो लाइन (स्थाई हिम रेखा) के काफी पीछे चले जाने से हुआ है। सेबों की पैदावार की ख़राब क्वालिटी होने से उत्तराखंड, हिमाचल और जम्मू कश्मीर के सीमांत काश्तकारों ने तो सेब के बजाए अन्य विकल्पों पर ध्यान देना शुरू कर दिया है।

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

©