Black Lives Matter आंदोलन का फिर उभार

काले नागरिक जैकब ब्लेक पर हुई पुलिस हिंसा के ख़िलाफ़ अमेरिका में फिर उबाल आ गया है. Black Lives Matter आंदोलन इस घटना के बाद फिर उभार पा रहा है.

- Khidki Desk

अमेरिका में विस्कॉन्सिन प्रांत के केनोशा शहर में पुलिस के एक काले व्यक्ति जैकब ब्लेक को गोली मारे जाने की घटना के बाद शहर में तीसरी रात भी अशांति का माहौल रहा. इस दौरान गोली लगने से दो लोगों की मौत हो गयी और एक व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया.


केनोशा पुलिस के लेफ्टिनेंट जोसेफ नोसालिक ने बताया कि विरोध प्रदर्शन वाले क्षेत्र में मंगलवार रात पौने बारह बजे गोलीबारी हुई. यह घटना उस वक्त हुई जब पुलिसकर्मी प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने की कोशिश कर रहे थे.


केनोशा काउंटी के शेरिफ डेविड बेथ ने बताया कि एक व्यक्ति के माथे में गोली लगी, जबकि एक को सीने में. घायल व्यक्ति की हालत गंभीर है. रात में हथियार से लैस लोगों को घूमते हुए देखा गया, लेकिन यह नहीं पता कि क्या गोलीबारी करने वाले लोग उसी समूह के थे.


कानूनी टीम गोलीबारी की घटना को लेकर पुलिस विभाग के खिलाफ एक मुकदमा दर्ज कराने पर विचार कर रही है. पुलिस ने इस बारे में अभी बताया नहीं है कि उस दिन क्या हुआ था, सिवाय इसके कि घरेलू विवाद के बारे में सूचना पाकर वे वहां पहुंचे थे. घटना में शामिल पुलिसकर्मियों के नाम उजागर नहीं किए गए हैं.


विस्कॉन्सिन न्याय विभाग मामले की जांच कर रहा है. प्रदर्शनकारियों का एक समूह मंगलवार को अदालत के आसपास लगाए गए अवरोधक की तरफ आया और उसे हटाने लगा. प्रदर्शनकारियों ने इस अवरोधक पर बोतलें और पटाखे भी फेंके जिसके बाद अवरोधक के पीछे खड़े पुलिसकर्मी आगे बढ़ने लगे.पुलिस की बख्तरबंद गाड़ियां आगे बढ़ीं और भीड़ पर आंसू गैस के गोले दागे गए.


पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को हटने को कहा, लेकिन प्रदर्शनकारियों ने अश्वेत लोगों का जीवन मायने रखता है के नारे लगाए. इसके बाद पुलिस ने रबड़ की गोलियां चलाईं. विस्कॉन्सिन के गवर्नर टोनी एवर्स ने शांति की अपील की और इमरजेंसी की घोषणा की.


इसके तहत केनोशा में नेशनल गार्ड की तैनाती भी 125 से बढ़ाकर 250 कर दी गयी है. केनोशा में मंगलवार को सैकड़ों लोगों ने कफ्र्यू का उल्लंघन किया.एक दिन पहले भी तोड़फोड़ की बड़ी घटनाएं हुई थी.


वहीं जेकब ब्लेक के वकील ने कहा कि पुलिस ने उनपर कई बार गोलियां चलाईं. केनोशा में रविवार को जेकब ब्लेक को पुलिस ने गोली मार दी थी. घटना के समय उनके तीन बच्चे भी वहां मौजूद थे. इस घटना के बाद कई शहरों में नए सिरे से प्रदर्शन शुरू हो गए.


इससे पहले मिनियापोलिस में पुलिस ने काले व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड को गोली मार दी थी, जिसके बाद बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन हुए थे. इससे पहले जेकब के पिता ने परिवार के अन्य सदस्यों और वकीलों के साथ संवाददाताओं से कहा,

"उन्होंने मेरे बेटे को सात बार गोली मारी, सात बार. जैसे मेरा बेटा कोई मायने ही नहीं रखता है, लेकिन मैं बता दूं कि मेरा बेटा मायने रखता है. वह एक इंसान है और उसका जीवन मायने रखता है."

अटॉर्नी बेन क्रम्प ने कहा कि ब्लेक का ऑपरेशन हो रहा है. गोली उनके स्पाइनल कॉर्ड में लगी ह, जिससे उनकी रीढ़ में गहरी चोट आई है. ब्लेक के शरीर के अन्य अंगों को भी नुकसान पहुंचा है. क्रम्प ने कहा कि किसी चमत्कार के बाद ही जेकब ब्लेक दोबारा चल-फिर पाएंगे.

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

©