हॉंगकॉंग में चुनाव क़ानूनों में बदलाव की तैयारी

संभावना जताई जा रही है कि हांगकांग की संसद इसी हफ़्ते ऐसा कानून बना सकती है, जिससे तय किया जाएगा कि कौन चुनाव लडने के योग्य है और कौन नहीं.

- Khidki Desk

Representative Image

हॉंगकॉंग में चीन समर्थित संसद चुनाव कानूनों में बदलाव की तैयारी कर रही है.


संभावना जताई जा रही है कि हांगकांग की संसद इसी हफ़्ते ऐसा कानून बना सकती है, जिससे तय किया जाएगा कि कौन चुनाव लडने के योग्य है और कौन नहीं.


हांगकांग की संसद के उच्च पदाधिकारी आज बीजिंग में होने वाली सालाना बैठक के लिए पहुंच रहे हैं.


चीन में इसे “Two Sessions” के नाम से जाना जाता है. पहली बैठक 4 मार्च को चाइनीज पीपल्स पाॅलिटिकल कंसल्टेटिव काॅन्फ्रेंस है, जिसका सिर्फ़ कागज़ी महत्व ही है, जबकि अहम मानी जाने वाली दूसरी बैठक 5 मार्च को होगी, जिसे नेशनल पीपल्स कॉंग्रेस कहा जाता है.


इससे पहले पिछले साल मई में यह बैठक हुई थी, जिसमें राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून पास कर 30 जून से हांगकांग में लागू किया गया था.


उसके बाद से ही हॉंगकॉंग में लोकतंत्र के लिए संघर्ष कर रहे लोगों के ख़िलाफ़ कड़े क़दम उठाए गए थे.


पिछले रविवार को लोकतंत्र समर्थक 47 लोगों को इस आरोप में गिरफ़्तार किया गया था कि वे चुनाव से पहले जीत की क्षमता रखने वाले अपने पसंदीदा उम्मीदवारों की तलाश कर रहे हैं.


उसके बाद चुनाव की प्रक्रिया फिलहाल रोक दी गई थी.