चीन ने किया गलवान झड़प का विडियो जारी

चीन के सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स ने बीते साल जून में गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प से जुड़ा एक वीडियो साझा किया है. 1962 के भारत चीन युद्ध के बाद दोनों देशों के सैनिकों के बीच पहली बार हुई इस हिंसक झड़प में भारत के 20 सैनिकों की मौत हो गई थी. अब चीन ने भी स्वीकार किया है कि इस झड़प में उसके 4 सैनिक मारे गए हैं.

- Khidki Desk


पिछले साल जून में गलवान घाटी में हुई जानलेवा हिंसक झड़प के बाद अब चीन के सरकारी मीडिया ग्लोबल टाइम्स ने इस घटना से जुड़ा एक विडियो जारी किया है. जिसमें दिखाई दे रहा है कि चीनी सैनिक अपने चार मारे गए सैनिकों को सलामी दे रहे हैं. शुक्रवार को चीन ने पहली बार स्वीकार किया था कि इस झड़प में उसके 4 सैनिक मारे गए थे. जबकि भारत ने तभी बताया था कि इस झड़प में उसके 20 सैनिकों की जान चली गई थी.


विडियो में दोनों देशों के सैनिकों के बीच जारी तीखी तक़रार भी देखी जा सकती है. कुछ विजुअल्स में सैनिक नदी पार कर रहे हैं और फिर दोनों सेनाओं के सैनिक आमने सामने खड़े हैं. राम में झड़प के कुछ ​दृश्य भी इस विडियो में हैं.


विडियो में चीन ने भारत पर आरोप लगाया है कि अप्रैल के बाद से ही भारतीय सेना पुराने समझौतों का उल्लंघन कर रही थी. यह भी आरोप लगाया गया है कि पुल और सड़कें बनाने के लिए भारत ने सीमा को पार किया और भारतीय सेना की टुकड़ियों ने इस इलाक़े में गस्त बढ़ा दी थी.


वीडियो में कहा गया है, कि चीन ने दोनों देशों के बीच समझौतों का सम्मान करते हुए बातचीत से हालात को सुलझाने की कोशिश की. लेकिन बात झड़प तक पहुंच गई.


यह विडियो तब सामने आया है जब लंबे दौर से दोनों देशों के बीच विवादित क्षेत्र से सेनाओं को वापस लेने की क़वायद चल रही है.


दोनों देशों ने पिछले नौ महीनों से लदाख़ में Line of Actual Control पर जारी standoff को समेटने के लिए पेंगॉंग झील के उत्तरी और दक्षिणी किनारों से सेना वापसी के पहले चरण को पूरा कर लिया है. शनिवार यानि आज सुबह दोनों देशों के कमांडर्स इस इलाक़े के दूसरे पॉइंट्स पर से सेनाओं की वापसी की कवायद पर चर्चा के लिए एक बैठक करने वाले हैं.