वापस पटरी पर लौटने लगी चीनी अर्थव्यवस्था

यह बढ़ोतरी अनुमानों के हिसाब से बहुत ज्यादा है और कई जानकार इसे वी शेप्ड रिकवरी का नतीजा मान रहे हैं. हालांकि खुदरा बिक्री के आंकड़ों में सुधार दिखना अभी बांकी है।

-khidki desk



कोरोना वायरस के चलते जहां विश्व की प्रमुख अर्थव्यस्थायें खुद को पटरी पर लाने की जद्दोजहद में लगी हैं तो वहीं चीन की अर्थव्यस्था में धीरे-धीरे सुधार दिखना शुरू हो गया है।


चीन ने कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए सख्त लॉकडाउन लगाया था जिसके बाद उसकी अर्थव्यवस्था में पहली बार गिरावट देखी गई थी जो इस साल की पहली तिमाही में छह दशमलव आठ फीसदी की दर से घट गई थी। हालांकि बुधवार को लिए गए आंकड़ों के अनुसार चीन की अर्थव्यवस्था में तीन दशमलव दो फीसदी का उछाल आया है।


यह बढ़ोतरी अनुमानों के हिसाब से बहुत ज्यादा है और कई जानकार इसे वी शेप्ड रिकवरी का नतीजा मान रहे हैं. हालांकि खुदरा बिक्री के आंकड़ों में सुधार दिखना अभी बांकी है। इससे यह अंदाजा लगाया जा सकता है की लोग अब भी खरीददारी करने से बच रहे हैं।


बता दें कि चीन ने पहली बार जीडीपी ग्रोथ का कोई लक्ष्य नहीं रखा है। चीनी सरकार अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए कई उपायों को लागू कर रही है, जिसमें करों में छूट भी शामिल है। हालांकि अमेरिका के साथ चल रहे ट्रेड वॉर के चलते यह रिकवरी कब तक बनी रहती है, इस पर कुछ कहना अभी संभव नहीं है।