'ठीक हो गए मरीज़ों को फिर हुआ कोरोना संक्रमण'

डिपार्टमेंट ऑफ़ लैबोरेट्री मेडिसिन के डॉ रोह क्युंग हो ने इस समस्या के ​बारे में कहा कि यह रिइंफैक्शन या रिएक्टिवेशन को मामला हो सकता है.

- Khidki Desk


दक्षिण कोरिया में कोरोना संक्रमण से इलाज़ के बाद ठीक हो गए कुछ मरीज़ों को दोबारा से संक्रमण हुआ है. देश में कम से कम ऐसे 222 मरीज़ सामने आए हैं जो कि एक बार ठीक हो गए थे लेकिन उनकी फिर से कोरोना संक्रमण की जांच रिपोर्ट पॉज़िटिव आई है. विशेषज्ञों ने इस पर आश्चर्य जताया है और कहा है कि उन्हें नहीं मालूम कि ऐसा क्यों हुआ. हालांकि दक्षिण कोरिया में कोरोना संक्रमण पर सबसे तेज़ी से क़ाबू पाया गया था और वहां नए मामलों में काफ़ी कमी आ रही है लेकिन इस नई समस्या को लेकर विशेषज्ञों में चिंता है. नेश्नल हेल्थ इंश्योरेंस इल्सैन हॉस्पिटल के डिपार्टमेंट ऑफ़ लैबोरेट्री मेडिसिन में काम करने वाले डॉ रोह क्युंग हो ने इस समस्या के ​बारे में कहा कि यह रिइंफैक्शन या रिएक्टिवेशन को मामला हो सकता है. रिइंफैक्शन का मतलब है कि यह ​मरीज़ फिर से कोरोनावायरस के संपर्क में आया और इंफैक्शन हो गया जबकि रिएक्टिवेशन का मतलब है कि उसके शरीर में पहले से मौजूद कोरोना वायरस इलाज के दौरान निष्क्रिय हो गया था लेकिन फिर से सक्रिय हो गया. हालांकि अभी यह स्पष्ट नहीं है लेकिन विशेषज्ञ मान रहे हैं कि इन दोनों ही स्थितियों का अध्ययन कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ किसी ठोस निष्कर्ष में पहुंचने में महत्वपूर्ण होगा. इससे पहले विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी इस बारे में चेतावनी देते हुए कहा था कि इस बात को कोई प्रमाण नहीं है कि जो लोग इस वायरस के संक्रमण से ठीक हो गए हैं, उन्हें यह दोबारा नहीं होगा।