बच्चों के लिए बेहद जानलेवा नहीं है कोरोनावायरस

यूरोप में 18 साल से कम आयु के 582 बच्चों पर किए गए कोरोनावायरस के प्रभावों के अध्ययन में यह तथ्य निकल कर आया है.

- Khidki Desk


शुरूआत से ही यह कहा जा रहा है कि कोरोनावायरस बुजुर्गों और बच्चों के लिए बेहद ख़तरनाक़ है लेकिन यूरोप में हुए एक अध्ययन से पता चला है कि बच्चों के लिए यह रोग बेहद जानलेवा नहीं है.


वैज्ञानिकों ने यूरोप स्तर पर किए गए एक अध्ययन में पाया है कि कोरोना वायरस से संक्रमित हुए बच्चों के मरने की दर बेहद कम है. हालांकि गंभीर रूप से बीमार होने की दर उनमें अधिक है.


इस शोध के तहत 18 साल से कम आयु के 582 लोगों पर कोरोनावायरस के प्रभावों का अध्ययन किया गया है.


ब्रिटेन, ऑस्ट्रिया और स्पेन के विशेषज्ञों के नेतृत्व में शोध कर रही इस टीम ने पाया कि इन बच्चों में से 60 प्रतिशत बच्चों को अस्पताल में दाख़िल करना पड़ा था और 8 फ़ीसद बच्चों को इंटेन्सिव केयर की ज़रूरत पड़ी. इन 582 बच्चों में से महज 4 लोगों की मौत हुई.


कुल बच्चों में से 16 प्रतिशत यानि 90 बच्चे ऐसे थे जिनका टेस्ट पॉज़िटिव तो आया था लेकिन उनमें कोई भी सिंप्टम्प्स नहीं थे.