किसान आंदोलन : टूलकिट मामले में पर्यावरण एक्टिविस्ट ​5 दिनों की पुलिस हिरासत में

दिशा ​रवि को उनके व​क़ील की ग़ैरमौजूदगी में जिस तरह कोर्ट में पेश किया गया और 5 दिन की हिरासत में भेजा गया, क़ानून के कई जानकार इस पर सवाल उठा रहे हैं.

- Khidki Desk



इधर भारत में दिल्ली की एक अदालत ने पर्यावरण कार्यकर्ता दिशा रवि को 5 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है. दिशा ​रवि पर किसान आंदोलन से जुड़े उस टूलकिट को एडिट करने का आरोप है जिसे मशहूर पर्यावरण कार्यकर्ता, ग्रेथा थुनबर्ग ने भी साझा किया था.


पुलिस का आरोप है कि यह टूलकिट भारत के ख़िलाफ़ एक अंतर्राष्ट्रीय साजिश का हिस्सा है. पुलिस ने दिशा रवि के लैपटॉप और मोबाइल फ़ोन को भी सीज़ कर दिया है.

भारत में चल रहे व्यापक किसान आंदोलनों के बीच दिल्ली पुलिस समेत सरकार समर्थक कई संगठन और लोग इस आंदोलन को ख़ालिस्तान समर्थक बता रहे हैं और उनका यह भी कहना है कि विदेशी ताक़तों की ओर से इस आंदोलन को साजिशन समर्थन दिया जा रहा है.


​बीते दिनों, रेहाना, ग्रेटा थुनबर्ग और मिया ख़लीफ़ा जैसी दुनिया भर की कई मशहूर हस्तियों ने भारत में चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में ट्वीट किया था.


हालांकि, दिशा ​रवि को उनके व​क़ील की ग़ैरमौजूदगी में जिस तरह कोर्ट में पेश किया गया और 5 दिन की हिरासत में भेजा गया, क़ानून के कई जानकार इस पर सवाल उठा रहे हैं. दिशा रवि पर्यावरण के लिए काम करने वाली संस्था 'फ़्राइडेज़ फ़ॉर फ़्यूचर' के संस्थापक सदस्यों में से एक हैं.