ट्रम्प पर फेसबुक की कार्रवाई

फेसबुक ने बृहस्पतिवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के चुनाव अभियान के तहत चलाए जा रहे पोस्ट और विज्ञापन भड़काऊ नस्लीय बयानबाजी के रूप में व्यापक पैमाने पर नफरत को बढ़ाने वाले हैं.

khidki desk



फेसबुक ने अमेरिका के आगामी राष्ट्रपति चुनावों को लेकर ‘नाजी’ प्रतीक वाले ट्रम्प के अभियान वाले विज्ञापन फेसबुक से हटा दिए हैं।


इस सप्ताह लगभग 900 विज्ञापन हटाए गए हैं। इसके बाद ट्रंप ने सोशल मीडिया कंपनियों पर ‘सेंसरशिप’ लगाने का आरोप लगाया है।


फेसबुक ने बृहस्पतिवार को कहा कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के चुनाव अभियान के तहत चलाए जा रहे पोस्ट और विज्ञापन भड़काऊ नस्लीय बयानबाजी के रूप में व्यापक पैमाने पर नफरत को बढ़ाने वाले हैं।


दरअसल विज्ञापनों में लाल रंग का एक उल्टा त्रिकोण दिखाया गया, जिससे फेसबुक यूजर्स को एंटी-फास्फेट ग्रुप, एंटिफा के खिलाफ एक याचिका पर हस्ताक्षर करने के लिए कहा गया था।


एक ट्वीट में, एंटी-डिफेमेशन लीग के सीईओ, जोनाथन ग्रीनब्लाट ने कहा, ‘नाजियों ने यातना शिविरों में अपने राजनीतिक पीड़ितों की पहचान करने के लिए लाल त्रिकोण का इस्तेमाल किया।


राजनीतिक विरोधियों पर हमला करने के लिए इसका उपयोग करना बहुत आक्रामक है।


बता दें कि फेसबुक और ट्विटर पिछले दिनों ट्रम्प के बयानों को लेकर चर्चा में थे। ट्विटर ने ट्रम्प के ट्वीट्स पर फैक्ट चेकिंग का नोटिफिकेशन लगाया था।


साथ ही फेसबुक ने यह कहते हुए किनारा कर लिया था कि वह अपने यूजर्स के विचारों में दखल नहीं देता।

ऐसा कहकर फेसबुक ट्रम्प के भड़काऊ बयानों के समर्थन में खड़ा दिख रहा था।