फ़लस्तीन में चुनावों के लिए सहमत हुए फ़तह और हमास

फ़लस्तीन में 15 सालों के बाद 22 मई को संसदीय चुनाव और 31 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव आयोजित किए जाएंगे.

- Khidki Desk



फ़लस्तीनी गुटों फतह और हमास का कहना है कि दोनों आंदोलनों के बीच तालमेल के बाद अब वे आगामी संसदीय और राष्ट्रपति चुनावों के लिए एक "मैकेनिज़्म" पर सहमत हुए हैं.


मिस्र की राजधानी काइरो में हुइ एक दो दिवसीय बैठक में दोनों पक्षों के बीच यह समझौता हुआ है. बैठक के बाद एक साझा बयान में कहा गया है कि इन दोनों गुटों और 12 अन्य फ़लस्तीनी गुटों ने चुनावों के लिए निर्धारित टाइमटेबल पर सहमति जताई है और साथ ही कहा गया है कि वे लंबे समय से टल रहे आगामी चुनावों के परिणामों का 'सम्मान करेंगे और उन्हें स्वीकारेंगे.'


फ़लस्तीन में 15 सालों के बाद 22 मई को संसदीय चुनाव और 31 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव आयोजित किए जाएंगे.


फ़लस्तीन के इस घटनाक्रम के बारे में यह भी माना जा रहा है कि फ़लस्तीनी अथॉरिटी के प्रमुख और फतह नेता महमूद अब्बास ने नए अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन को अपनी लोकतांत्रिक छवि पेश करने के लिए यह क़वायद की है.


महमूद अब्बास डोनल्ड ट्रम्प के दौर में अमेरिका के साथ बेहद निचले स्तर तक पहुंच चुके फ़लस्तीन के संबंधों में सुधार की गुंजाइश तलाश रहे हैं.