जुनको ताबेई : जिन्हे याद किया है गूगल ने


जुनको 16 मई, 1975 को एवरेस्ट की चोटी पर पहुंचीं. और वह 1992 में "सात समिट्स" को पूरा करने वाली पहली महिला भी थीं, जिसने हर महाद्वीप पर सबसे ऊंची चोटी को फ़तेह किया है.

-khidki desk


गूगल आज पर्वतारोही जुनको ताबेई का जन्मदिवस मना रहा है, जो माउंट एवरेस्ट के शिखर को छूने वाली पहली महिला थीं. जुनको ताबेई जापान मूल की थीं जिनका जन्म मिहारू, फुकुशिमा में हुआ था.


जुनको 16 मई, 1975 को एवरेस्ट की चोटी पर पहुंचीं. और वह 1992 में "सात समिट्स" को पूरा करने वाली पहली महिला भी थीं, जिसने हर महाद्वीप पर सबसे ऊंची चोटी को फ़तेह किया हैं. अगर आप गूगल पेज को खोलेंगे तो वहां सात पर्वतों पर कूदते हुए एक एनिमेटेड आकृति दिखेगी.

तबेई कहती थीं, “तकनीक और क्षमता अकेले आपको शीर्ष पर नहीं पहुंचाते हैं, यह इच्छा शक्ति है जो सबसे महत्वपूर्ण है. यह शक्ति है कि आप पैसे से नहीं खरीद सकते हैं या दूसरों द्वारा दिए जा सकते हैं, यह आपके दिल से उगता है.”


16 मई, 1975 को सफलतापूर्वक शिखर पर चढ़ने के बाद उन्हें जापान के सम्राट, क्राउन प्रिंस और राजकुमारी द्वारा सम्मानित किया गया था. उसने 1996 के एक साक्षात्कार में स्पोर्ट्स इलस्ट्रेटेड को बताया कि वह "सबसे कम उम्र की चढ़ाई करने वाली 36 वीं व्यक्ति" के रूप में होने से अधिक खुश होगी.


उन्होंने शोवा महिला विश्वविद्यालय में अंग्रेजी साहित्य का अध्ययन किया और विश्वविद्यालय के पर्वतारोहण क्लब की सदस्य थीं. 1969 में, अपने स्नातक स्तर की पढ़ाई के बाद, उन्होंने लेडीज क्लाइंबिंग क्लब , जापान (LCC) का गठन किया.


2012 में उसे कैंसर हो गया और 20 अक्टूबर 2016 को हमने पहली एवरेस्ट पर्वतारोही को खो दिया.