दिशा रवि के बचाव में आई ग्रेटा थनबर्ग

दिल्ली पुलिस ने किसान आंदोलन से जुड़े इस टूलकिट को भारत की छवि ख़राब करने की एक अंतर्राष्ट्रीय साजिश बताते हुए, इसे बनाने और एडिट करने के आरोप में क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि को बैंग्लुरू से ग़िरफ़्तार​ किया था.

- Khidki Desk



भारत में किसान आंदोलन से जुड़े एक टूलकिट मामले में ग़िरफ़्तार की गई दिशा रवि, के समर्थन में स्वीडिश क्लाइमेट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग उतर आई हैं.


उन्होंने अपने एक ट्वीट में लिखा, ''अभिव्यक्ति की आज़ादी और शांतिपूर्ण प्रदर्शन करना बुनियादी मानवाधिकार है जिस पर कोई समझौता नहीं किया जा सकता. किसी भी लोकतंत्र के लिए यह बुनियादी बात है. #StandWithDishaRavi''

ग्रेटा ने किसान आंदोलन से जुड़ा एक टूलकिट अपने सोशल मीडिया हैंडल से शेयर किया था. जिसे बाद में उन्होंने यह कहते हुए डिली​ट कर दिया था कि इसे ग्राउंड पर अपडेट कर दिया गया है.


दिल्ली पुलिस ने किसान आंदोलन से जुड़े इस टूलकिट को भारत की छवि ख़राब करने की एक अंतर्राष्ट्रीय साजिश बताते हुए, इसे बनाने और एडिट करने के आरोप में क्लाइमेट एक्टिविस्ट दिशा रवि को बैंग्लुरू से ग़िरफ़्तार​ किया था. इस ग़िरफ़्तारी की भारत के साथ ही दुनिया भर के पर्यावरण कार्यकर्ताओं और नागरिक समूहों ने आलोचना की है.