संकट में इमरान सरकार

तहरीक़-ए-इंसाफ़ के इस्लामाबाद की बेहद महत्वपूर्ण सीट हार जाने के बाद अब इमरान ख़ान को पाकिस्तानी संसद में विश्वासमत हासिल करना होगा.

- Khidki Desk

पाकिस्तान में प्रधानमंत्री इमरान ख़ान के सामने राजनीतिक संकट आ खड़ा हुआ है. सिनेट इलैक्शंस में उनकी पार्टी तहरीक़-ए-इंसाफ़ के राजधानी इस्लामाबाद की बेहद महत्वपूर्ण सीट हार जाने के बाद अब इमरान ख़ान को पाकिस्तानी संसद में विश्वासमत हासिल करना होगा.


बुधवार को पाकिस्तानी संसद के 99 सदस्यों वाले उच्च सदन सिनेट की 48 सीटों के लिए चुनाव हुए थे. इन चुनावों में बेहद महत्वपूर्ण इस्लामाबाद की सीट से पूर्व पाकिस्तानी प्रधानमंत्री यूसुफ़ रज़ा गिलानी ने इमरान ख़ान की सरकार में वित्त मंत्री अब्दुल हाफ़िज़ शेख़ को शिकस्त दी है.

हालांकि मुक़ाबला बेहद कड़ा था जिसमें गिलानी 169 और हाफ़िज़ शेख़ को 164 वोट मिले. बिलावल भुट्टो ज़रदारी की पार्टी पीपीपी से ताल्लुक रखने वाले गिलानी पाकिस्तानी डैमोक्रेटिक मूवमेंट गठबंधन की ओर से उम्मीदवार थे.


इस बेहद अहम सीट को हार जाने के बाद इमरान ख़ान सरकार से इस्तीफ़े मांगे जा रहे हैं.


हालांकि आधिकारिक तौर चुनाव नतीज़ो की घोषणा गुरुवार को होनी है लेकिन इलैक्शन कमिशन की ओर से अनाधिकारिक तौर पर मिले नतीज़ों में इमरान ख़ान की पार्टी तहरीक़ ए इंसाफ़ को नैश्नल असेंब्ली में हार का सामना करना पड़ रहा है जहां वह अपने गठबंधन दलों के साथ बहुमत में थे.