'सैन्य हमले को युद्घ की तरह लेगा ईरान' : ईरानी विदेश मंत्री

ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावाद ज़रीफ़ ने कहा, ''मैं एक बेहद गंभीर बयान दे रहा हूं कि ​हम युद्ध नहीं चाहते, हम सैन्य टकराव में भी नहीं उलझना चाहते.. लेकिन हम अपने क्षेत्र की रक्षा के लिए पलक भर भी नहीं झपकाएंगे.''

- Khidki Desk



ईरान और सऊदी अरब के बीच बढ़ते तनाव के बीच ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावाद ज़रीफ़ ने कहा है कि अमेरिका और सऊदी अरब की ओर से उनके देश के ख़िलाफ़ अगर कोई भी सैन्य हमला होगा तो उसे वे 'एक पूरे युद्ध' की तरह लेंगे.


गुरुवार को अमरीकी मीडिया संस्थान सीएनएन के स्थानीय संस्करण से बात करते हुए ज़रीफ़ ने कहा, ''मैं एक बेहद गंभीर बयान दे रहा हूं कि ​हम युद्ध नहीं चाहते, हम सैन्य टकराव में भी नहीं उलझना चाहते.. लेकिन हम अपने क्षेत्र की रक्षा के लिए पलक भर भी नहीं झपकाएंगे.''


इससे पहले सऊदी स्थित अपने आॅयल प्लांट्स पर हुए ड्रोन हमलों के बाद सउदी अरब गए अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पिओ ने बुधवार को सऊदी अरब के पक्ष में बोलते हुए कहा था कि ईरान के व्यवहार को 'अनदेखा नहीं किया जाएगा.' अमेरिका ने इन हमलों के लिए सीधे तौर पर ईरान को ज़िम्मेदार ठहराया है. जिसके जवाब मे ईरान ने अमेरिका को चेतावनी दी है कि अगर ईरान पर हमला होगा तो वह सीधे जवाब देगा.


हालांकि यमन के ईरान समर्थित हाउथी विद्रोहियों ने इस हमले की ज़िम्मेदारी यह कहते हुए ली है कि यह हमले पिछले कई सालों से सउदी द्वारा छेड़े गए युद्ध का बदला लेने के लिए किए गए थे जिसमें दसियों हज़ार लोग मारे गए.


लेकिन सऊदी और अमेरिकी अधिकारियों ने सीधे ईरान पर इस हमले के आरोप लगाए हैं.


सऊदी अरब के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल तुर्की अल माल्की ने कहा है ऐसा हो ही नहीं सकता कि यह हमले यमन से किए गए हों. उन्होंने कहा, ''हमले उत्तर दिशा की ओर से हुए हैं और निसंदेह ईरान द्वारा कराए गए हैं. हम जल्द ही सटीक लांच प्वाइंट का पता लगा लेंगे.''

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

©