जॉर्डन ने इसराएल को दी चेतावनी, जानिए क्यों?

ग़ौरतलब है कि इसराएल जॉर्डन घाटी में यहूदी बस्तियों के विलय करने की बात कह चुका है. अगर ऐसा होता है तो लंबे समय से रुकी पड़ी शांति प्रक्रिया लगभग खत्म हो जाएगी और फ़लस्तीन की स्थापना का रास्ता भी बंद हो जाएगा.

- Khidki Desk

जॉर्डन ने इसराएल को चेतावनी दी है कि अगर वह अवैध कब्ज़े वाली पश्चिमी पट्टी का विलय करता है तो बड़े पैमाने पर संघर्ष छिड़ सकता है। जॉर्डन ने यह बात तब कही है जब यूरोपीय संघ के सभी विदेश मंत्री इस तरह के किसी भी कदम को रोकने के लिए कूटनीतिक प्रयास तेज कर रहे हैं। ग़ौरतलब है कि इसराएल जॉर्डन घाटी में यहूदी बस्तियों के विलय करने की बात कह चुका है। अगर ऐसा होता है तो लंबे समय से रुकी पड़ी शांति प्रक्रिया लगभग खत्म हो जाएगी और फलस्तीन की स्थापना का रास्ता भी बंद हो जाएगा। पांचवीं बार इसराएल के प्रधानमंत्री बनने जा रहे बेंजामिन नेतन्याहू, हाल ही में इस गठबंधन सरकार के साथ समझौता कर इस दिशा में कदम बढ़ा चुके हैं और जॉर्डन की चेतावनी को इसी संदर्भ में समझा जा सकता है। जर्मन पत्रिका डेर स्पीगल में शुक्रवार को प्रकाशित साक्षात्कार में जॉर्डन के बादशाह अब्दुल्ला द्वितीय ने कहा कि जो नेता एक राज्य समाधान का समर्थन कर रहे हैं वे इसके संभावित नतीजों के बारे में नहीं जानते। उन्होंने जोड़ा कि अगर फलस्तीन राष्ट्रीय प्राधिकरण (पीएलए) धराशायी हो गया तो क्षेत्र में और अधिक अफरातफरी और कट्टरता फैलेगी। उल्लेखनीय है कि जॉर्डन पश्चिमी देशों का सहयोगी है और अरब के उन दो देशों में शामिल है जिसने इसराएल के साथ शांति समझौता किया है।

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

©