ब्राज़ील की राजनीति में Lula की रि-एंट्री

ब्राज़ील के सुप्रीम कोर्ट के एक जज ने सोमवार को पूर्व राष्ट्रपति लुइज़ इनासिओ लुला डा सिल्वा की, भ्रष्टाचार के एक मामले में सुनाई गई सज़ा को रद्द कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट के इस क़दम के बाद अब अगले साल राष्ट्रपति चुनावों वामपंथी लोकप्रिय नेता लुला अब राष्ट्रपति जायर बोल्सोनारो को चुनौती दे सकेंगे.

- Khidki Desk

ब्राज़ील की सुप्रीम कोर्ट के एक न्यायाधीश एडसन फ़ैचिन ने ब्राज़ील के पूर्व राष्ट्रपति लुइज़ इनासिओ लुला डा सिल्वा को राहत देते हुए भ्रष्टाचार के एक मामले में उन्हें हुई सज़ा को रद्द कर दिया है. इस अप्रत्याशित फ़ैसले में जस्टिस फ़ैचिन ने कहा है कि दक्षिणी शहर Curitiba की किसी कोर्ट को लुला के ख़िलाफ़ भ्रष्टाचार का मुक़दमा चलाने का अधिकार नहीं है इसलिए उनके ख़िलाफ़ राजधानी ब्राज़िलिया की संघीय अदालत में मुक़दमा चलाया जाना चाहिए.


हालॉंकि इस फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट की एक पूर्ण बैंच रिव्यू कर सकेगी लेकिन अब इससे राष्ट्रपति लूला के राजनीतिक अधिकारों की पुनर्बहाली हो गई है और 2022 के राष्ट्रपति चुनावों को लड़ने का रास्ता खुल गया है. अब तक भ्रष्टाचार के आरोपों में सज़ा पाए लुला राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य हो गए थे.


कोरोना काल में अपने फ़ैसलों से विवादों में घिरे रहे मौजूदा राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो को आगामी चुनावों में अब लोकप्रिय वामपंथी नेता लुला से एक कड़ी चुनौती का सामना करना होगा.


इधर देश के प्रोसेक्यूटर जनरल के आॅफ़िस की ओर से जारी एक बयान में प्रोसेक्यूटर जनरल के प्रवक्ता आॅगुस्टो एरास ने कहा गया है कि इस फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी जाएगी.


लुला ने ट्विटर में साझा एक बयान में कहा है कि सोमवार के फ़ैसले ने बता दिया है कि वह लंबे समय से जिस क़ानूनी लड़ाई को लड़ रहे थे उसमें वे हमेशा से सही थे.


हालॉंकि ऐसा नहीं हुआ है कि लुला भ्रष्टाचार के आरोप से बरी हो गए हों लेकिन इस फ़ैसले ने ब्राज़ील की राजनीति में उनकी वापसी का रास्ता खोल दिया है.