जेल में भूख हड़ताल पर Navalny

नावल्नी ने बताया की जेल में उनके साथ बड़ा बुरा बर्ताव किया जा रह है. और जब उन्होंने इंसानियत की बुनियाद पर मेडिकल हेल्थ केयर की मांग की तो उन्हें पीटा भी गया.

- Khidki Desk

Representative Image

लंबे समय से जेल में बंद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के सबसे बड़े आलोचक रहे एलेग्जेई नावल्नी की हालत बेहद ख़राब है. कैदियों को जेल में मिलने वाली बेसिक हेल्थ केयर भी उन्हें मयस्सर नहीं हैं.


हाल में ही उनकी वकील ने नावल्नी के पैरों और रीढ़ में काफी दर्द की शिकायत की थी. जब सुनवाई नहीं हुई तो नावल्नी ने जेल में भूख हड़ताल शुरू कर दी है.


नावल्नी ने बताया की जेल में उनके साथ बड़ा बुरा बर्ताव किया जा रह है. और जब उन्होंने इंसानियत की बुनियाद पर मेडिकल हेल्थ केयर की मांग की तो उन्हें पीटा भी गया.

नावल्नी के इस बयान के बाद रूस के मेडिकल प्रोफेशनल्स ने राष्ट्रपति के नाम एक खुला पत्र लिखा है. इसमें 44 साल के इस विपक्षी नेता की उचित देखभाल की मांग की गई है. पत्र में कहा गया है की इस तरह के मरीज़ को यूँ रखना उसकी सेहत के बेहतर नहीं है.


रीढ़ की बीमारी से परेशान नावल्नी का अगर जल्द ही इलाज नहीं किया गया तो उन्हें पैरालिसिस भी हो सकता है. ग़ौरतलब है कि इससे पहले नावल्नी को नर्व एजेंट दिए जाने के भी आरोप लगाए गए थे.