गहरे समुद्र में फंसे रोहिंग्या, बांग्लादेश ने शरण देने से किया इनकार

Updated: Apr 26

संयुक्त राष्ट्र रिफ्यूज़ी एजेंसी UNHCR समुद्र में फंसे रोहिंग्या, बांग्लादेश ने शरण देने से किया इनकार ने चिंता जताई है कि हफ़्तों से समुद्र में फंसे हुए इन रोहिंग्या लोगों के पास खाने को पर्याप्त खाना और पीने का पानी नहीं होगा.

-Khidki Desk

Representative Image

बंगाल की खाड़ी में कोरोनावायरस के प्रकोप के बीच कम से कम 500 रोहिंग्या गहरे समुद्र के भीतर कई हफ़्तों से फंसे हुए हैं. आसपास का कोई देश उन्हें स्वीकारने को तैयार नहीं है और बांग्लादेश ने भी इन रोहिंग्याओं के बांग्लादेश में प्रवेश के लिए मना कर दिया है। मानवाधिकार संगठन इसकी आलोचना कर रहे हैं. हालांकि बांग्लादेश के विदेश मंत्री AK Abdul Momen ने कहा है कि इनकी ज़िम्मेदारी बांग्लादेश की नहीं है. उन्होंने कहा है कि ये फंसे हुए लोग गहरे समुद्र में हैं ​जो कि बांग्लादेश की सीमा से काफ़ी दूर है. ऐसे में बांग्लादेश से उन्हें स्वीकारने की अपेक्षा क्यों की जा रही है? इससे पहले मले​शिया ने इन रोहिंग्याओं को स्वीकारने से मना कर दिया था. वहां कोरोनावायरस के प्रकोप के चलते बाहर से आ रही किसी भी बोट को प्रवेश की अनुमति नहीं है. संयुक्त राष्ट्र रिफ्यूज़ी एजेंसी UNHCR ने चिंता जताई है कि हफ़्तों से समुद्र में फंसे हुए इन रोहिंग्या लोगों के पास खाने को पर्याप्त खाना और पीने का पानी नहीं होगा.

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

©