ओवरफ़्लो की कग़ार पर पहुंचा दुनिया का सबसे बड़ा बांध

महज एक रात में यह विशाल बांध 2 मीटर तक ऊपर उठ गया था और पानी ख़तरे के निशान से तक़रीबन 20 मीटर ऊपर जा पहुंचा.

- Khidki Desk


मूसलाधार बारिश से दुनिया का सबसे बड़ा बांध ओवरफ़्लो होने की कग़ार पर आ गया है. चीन की यांग्त्ज़ी नदी पर बने थ्री गॉर्ज डैम में तक़रीबन अपनी कुल क्षमता तक पानी भर चुका है.


बरसात के चलते यांग्त्ज़ी नदी में पानी की रफ्तार, प्रति सैकेंड 75 हज़ार घन मीटर तक पहुंच गई है जिसके चतले इस बांध की गहराई शुक्रवार की सुबह तक 165.6 मीटर्स तक जा पहुंची थी. महज एक रात में यह विशाल बांध 2 मीटर तक ऊपर उठ गया था और पानी ख़तरे के निशान से तक़रीबन 20 मीटर उपर जा पहुंचा.


बृ​हस्पतिवार को डैम के अधिकारियों ने बढ़ते जल स्तर को रोकने के लिए पानी की निकासी की मात्रा को 48 हज़ार 800 घन मीटर्स प्रति सेकेंड तक कर दिया था. जो कि अब तक का एक रिकॉर्ड स्तर है. अगर बांध में पानी इसी तरह तेज़ी से बढ़ता रहा तो हो सकता है कि निकासी की मात्रा को और बढ़ाना पड़े. लेकिन इससे भी डाउनस्ट्रीम में बाढ़ का ख़तरा हो सकता है.


इस साल यांग्त्ज़ी नदी के बेसिन में आम तौर पर होने वाली बरसात से दोगुनी बरसात हुई है. नदी के जलस्तर में हुए इस इजाफ़े का यही कारण है. यांग्त्ज़ी नदी पर दुनिया का यह सबसे बड़ा बांध जहां एक ओर बिजली के उत्पादन के लिए बनया गया था तो दूसरी ओर इसका मक़सद यांग्त्ज़ी में अक्सर आने वाली बाढ़ की रोकथाम भी था. इस विशालकाय बांध का निर्माण 2012 में पूरा हुआ था.


चीन में इस साल पिछले हफ़्ते तक दर्ज आंकड़ों के मुताबिक़, 6 करोड़ 30 लाख लोग बाढ़ से प्रभावित हुए हैं और 180 अरब युआन यानि तक़रीबन 26 अरब डॉलर्स का आर्थिक नुक़सान पहुंचा है.