तियानमेन नरसंहार: हॉन्ग कॉन्ग में जारी तनाव के बीच जमा हुए लोग

हर साल लोग दुनिया के अलग-अलग जगहों पर इस नरसंहार में मारे गए लोगों की याद में जमा होते रहे हैं। इस साल भी कई लोग काले कपड़े पहनकर हॉन्ग कॉन्ग की आज़ादी के समर्थन में नारे लगाते हुए सड़कों पर उतरे।

-khidki desk




4 जून को तियानमेन स्क्वायर नरसंहार की 31 वीं बरसी पर कोरोना वायरस के कारण लगे प्रतिबन्ध के बावजूद हज़ारो लोग हॉन्ग कॉन्ग में अलग-अलग जगहों पर एकत्रित हुए और नरसंहार में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि देते हुए मोमबत्तियां जलाई। चीन द्वारा हांगकांग पर लाये गए नए राष्ट्रीय सुरक्षा क़ानून पर जारी विरोध-प्रदर्शनों के बीच यह दिन बेहद अहम हो गया था।


बता दें की 4 जून 1989 को चीन के बीजिंग में तियानमेन स्क्वायर में कम्युनिस्ट पार्टी के नेता हू याओबैंग की मौत के ख़िलाफ़ हज़ारों छात्र प्रदर्शन कर रहे थे। चीन की सरकार द्वारा की गई जवाबी सैन्य कार्रवाई में कई हज़ार छात्र मर गए थे।


उसके बाद हर साल लोग दुनिया के अलग-अलग जगहों पर इस नरसंहार में मारे गए लोगों की याद में जमा होते रहे हैं। इस साल भी कई लोग काले कपड़े पहनकर हॉन्ग कॉन्ग की आज़ादी के समर्थन में नारे लगाते हुए सड़कों पर उतरे।


ख़बरों के अनुसार, कोरोना महामारी के बीच हॉन्ग कॉन्ग में 8 से ज्यादा लोगों के इकट्ठे होने पर पाबंदी थी लेकिन पुलिस ने हॉन्ग कॉन्ग के विक्टोरिया पार्क में जमा प्रदर्शनकारियों पर कोई रोक नहीं लगाई। हालांकि कुछ जगहों जैसे मॉंग कॉक जिले में पुलिस को प्रदर्शनकारियों पर आंसू गैस का इस्तेमाल करना पड़ा।


बता दें कि चीन द्वारा हाल में हॉन्ग कॉन्ग के लिए लाए गए नए सुरक्षा कानून पर हॉन्ग हॉन्ग में इस समय भारी तनाव और विरोध का माहौल है। ऐसे में तियानमेन स्क्वायर नरसंहार की बरसी पर हुई इस गोलबंदी को काफ़ी अहम माना जा रहा है।

SUPPORT US TO MAKE PRO-PEOPLE MEDIA WITH PEOPLE FUNDING.

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

© Sabhaar Media Foundation