'ट्रम्प ने अफ़रा-तफ़री भरी तबाही मचा दी' : ओबामा

पिछले सालों में अपने कार्यकाल के पूरा होने के बाद ओबामा को स​क्रिय तौर पर इस तरह की राजनीतिक टिप्पणियों से परहेज़ करते देखा गया है. लेकिन अब ओबामा का यह बयान आया है.

- Khidki Desk

कोरोनावायरस के प्रकोप से अमेरिका की ट्रम्प हुकूमत जिस तरह निपटने की कोशिश कर रही है उसे पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने 'पूरी तरह अफ़रा तफ़री भरी तबाही' वाला बताया है. पिछले सालों में अपने कार्यकाल के पूरा होने के बाद ओबामा को स​क्रिय तौर पर इस तरह की राजनीतिक टिप्पणियों से परहेज़ करते देखा गया है. लेकिन शुक्रवार को अपने कार्यकाल के दौरान जिन अधिकारियों कर्मचारियों के साथ उन्होंने काम किया था उनके संगठन ओबामा एल्मनाई एसोसिएशन के साथ एक टेली कॉंफ्रेंसिंग करते हुए ओबामा ने ट्रम्प प्रशासन पर यह टिप्पणी की थी जो बाद में लीक हो गई. ट्रम्प प्रशासन ने कोरोना के प्रकोप पर शुरुआत से ही जिस तरह की लापरवाही बरती है उस पर सवाल उठाते हुए इस बयान में ओबामा ने कहा है,


''यह उन वजहों का ही एक हिस्सा है कि इस वैश्विक संकट की घड़ी में इससे जूझना इतना कठिन और अफ़रा तफ़री भरा हो गया है. हालांकि कोई बेहतर सरकार होती तो यह बुरा होना था. लेकिन इन हालातों में यह पूरी तरह अफ़रा तफ़री से भरी तबाही वाला हो गया है क्योंकि सराकरा का माइंड सेट है कि 'इसमें मेरे लिए क्या रखा है' या फिर 'हर किसी से उलझ जाओ'. जब हमारी सरकार की ऐसी मान​सिकता होगी तौर और क्या होगा?''

हालांकि इस कॉंफ्रेंसिंग में तक़रीबन 3 हज़ार लोग मौजूद थे तो इसका लीक होना अस्वाभाविक नहीं था और ओबामा इससे वाक़िफ़ ना रहे हों यह भी नहीं माना जा सकता. याहू न्यूज़ में लीक हुए इस बयान को कई मीडिया हाउसेज़ ने एक बराक ओबामा के महत्वपूर्ण बयान के तौर पर प्राथमिकता दी है. रिपोर्ट के मुताबिक़ इस कॉंफ्रेंसिंग में ओबामा ने अपने समर्थकों से यह भी अपील की है कि वे डेमोक्रेटिक पार्टी के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार जोए बिडन को समर्थन करें.


हालांकि अब तक ट्रम्प की ओर से इस पर कोई टिप्पणी नहीं आई है लेकिन वह ओबामा और उनके कार्यकाल पर पहले भी कई बार आलोचनात्मक बयान दे चुके हैं.